Pages

मिथिलाक पर्यायी नाँवसभ

मिथिलाभाषाक (मैथिलीक) बोलीसभ

Sunday, 24 June 2012

पद्य - ७७ - अप्पन नैना सम्हार !


अप्पन नैना सम्हार !
(गीत)



आँखि  सुन्नर  एहेन   की  पाओत   हरीन ।
की  तुलना  करत  गोरी   तोरा  सँ  मीन ।
धन्य  काजर  भऽ  गेल  बनि एकर शिंगार ।
          अप्पन नैना सम्हार !
         गोरी कनखी ने मार !




हाय  !  सहलो  ने जाइछ,  तीर  तेज - तर्रार ।
          अप्पन नैना सम्हार !
         गोरी कनखी ने मार !


केओ कहइत अछि नैन जेना सागर वा झील ।
मीन युगल करय केलि वा हो कमलदल नील ।
मुदा       हमरा      लगैछ     ई     सद्यः   कटार ।
          अप्पन नैना सम्हार !
         गोरी कनखी ने मार !


आँखि  सुन्नर  एहेन   की  पाओत  हरीन ।
की  तुलना  करत  गोरी   तोरा  सँ  मीन ।
धन्य  काजर  भऽ  गेल  बनि एकर शिंगार ।
          अप्पन नैना सम्हार !
         गोरी कनखी ने मार !


थिक   कारी   मुदा   मनोहारी   ई   नैन ।
दूर  रहितहुँ  हमर  छीनि  लेलक  ई  चैन ।
बिनु  आहटिअहि  कयलक हृदय आर – पार ।
          अप्पन नैना सम्हार !
         गोरी कनखी ने मार !


देन   भगवानक   तोरा   ई  अनमोल  छौ ।
मुल्य  किछु  नञि  मुदा बड़ एकर मोल छौ ।
एकर   आगाँ   निछाउर   ई  सौंसे  संसार ।
          अप्पन नैना सम्हार !
         गोरी कनखी ने मार !








डॉ॰ शशिधर कुमर “विदेह”                                


विदेहपाक्षिक मैथिली इ पत्रिका, वर्ष , मास ५४ ,  अंक ‍१०८ , ‍१५ जून २०१२ मे “स्तम्भ ३॰२” मे प्रकाशित ।






No comments:

Post a Comment