Pages

मिथिलाक पर्यायी नाँवसभ

मिथिलाभाषाक (मैथिलीक) बोलीसभ

Tuesday, 6 March 2012

पद्य - ५० - कीनि दे हमरो खेलौना (बालगीत)


कीनि दे हमरो खेलौना
(बालगीत)



हमरो  कीनि  दे  बार्बी  गुड़िया,  डिज्नी  बला  खेलौना ।
               माए गे माए ! कीनि दे हमरा खेलौना ।।




               माए गे माए !  कीनि दे हमरा खेलौना ।
कनिञा – पुतरा केर दिन गेलै,  लेब ने  हम झुनझूऽऽना ।।



हम्मर  इसकुल  केर संगी सभ,
जानि  ने   की – की   लाबैए ।
“मैथिल बुड़िबक” कहि कऽ हमरा,
ओ    सभ   रोज   सिहाबैए ।
हमरो  कीनि  दे  बार्बी  गुड़िया,  डिज्नी  बला  खेलौना ।
               माए गे माए ! कीनि दे हमरा खेलौना ।।



केओ उड़ाबए  हवाई – जहाज,
केओ  मोटर  केँ   दौड़ाबैए ।
केओ हाथ  बन्दूक  लऽ घूमए,
विडियो – गेम     देखाबैए ।
सभहक  हाथ  रिमोट  खेलौना,  हमरा  लग  टुनमूऽऽना ।
               माए गे माए ! कीनि दे हमरा खेलौना ।।



धिया   भारती – सिया  हमर,
आ  बौआ  गौतम – मण्डन ।
धिया  हमर  बुधियारि  बहुत,
आ  बौआ  तेहने   सज्जन ।
जुनि कानू, मोन छोट करू नञि, कीनि देब बहुते खेलौना ।
               माए गे माए ! कीनि दे हमरा खेलौना ।।






विदेहपाक्षिक मैथिली इ पत्रिका, वर्ष , मास ५१ , अंक ‍१०१ , ‍०१ मार्च २०१२ मे “बालानां कृते” मे प्रकाशित । 


No comments:

Post a Comment